Short Poem on Election in Hindi 2024 | चुनावी राजनीति पर बेहतरीन हिंदी कविता


Short Poem on Election in Hindi 2024


चुनावी राजनीति पर बेहतरीन हिंदी कविता


कहीं चुनाव तो नहीं



  अंदाज़ जुदा सा है कोई दांव तो नहीं
हर कोई खुदा सा है ,कहीं चुनाव तो नहीं।


रैलियों पर रैली, बैनर ,चुनावी पर्चियां
वोटों की मंडी सजाने का कोई दुराव तो नहीं।

 
कसमे-वादों के डंके बजने लगे हैं शहर भर में
प्रलोभनकारियों का कुर्सियों से कहीं लगाव तो नहीं।


धक्का-मुक्की के बीच ताबड़तोड़ बजती तालियां
चुनावी हथकंडों का गलत इरादों से कोई जुड़ाव तो नहीं।


चिकनी-चुपड़ी बातें मलकर वोटों का होता मोल- भाव 
सियासी षड्यंत्रों का कोई जलता अलाव तो नहीं।


झोले,थैले,बक्से तक आतुर हैं किसी जुगाड़ में
तोहफे में इनको मिल रहा कोई घाव तो नहीं।


"होगा बदलाव अबकी बार, जब चुनेंगे हमारी सरकार"
शाही पुलाव परोसने वाले कहीं, ये ऊदबिलाव तो नही।


सियासी खेलों के मंझे खिलाड़ी छुपाते हैं, हर गुनाह अपने
इनका यूं चुनावी रंग में रंगना, कहीं कोई बचाव तो नहीं।







Kahin chunav to nahin




Andaaz juda sa hai koi daanv to nahin
Har koi khuda sa hai ,kahin chunaav to nahin.



Railiyon par raili, bainar ,chunaavi parchiyaan
Voṭon ki manḍii sajaane ka koi duraav to nahin.

 

Kasame-vaadon ke ḍanke bajane lage hain shahar bhar mein
Pralobhankaariyon ka kursiyon se kahin lagaav to nahin.



Dhakkaa-mukki ke beech taabadatod bajatii taaliyaan
Chunaavii hathakanḍon ka galat iraadon se koi judaav to nahin.



Chikani-chupadi baatein malakar voṭon ka hota mol- bhaav 
Siyaasii shaḍyantron ka koi jalata alaav to nahin.



Jhole,Thaile,Bakse tak aatur hain kisi jugaad mein
Tohfe mein inko mil rahaa koi ghaav to nahin.



"Hoga badalaav abaki baar, jab chunenge hamaari sarkaar"
shahi pulaav parosane vaale kahin, ye uudabilaav to nahi.



Siyaasii khelon ke manjhe khilaadi Chhupaate hain, har gunaah apane
Inakaa yun chunaavii rang mein rangna, kahin koi bachaav to nahin.

*****
                    ‌                       .......'अनु-प्रिया'




4 टिप्‍पणियां:

Blogger द्वारा संचालित.