नए जमाने की डिजिटल हिंदी कविता | Hindi- English poem on modernization| Anupriya

Naye Jamane ki Nayi Hindi kavita-

New Hindi-English kavita

डिजिटल जमाना


 आजकल जमाना बडा़ digital है,
Simple नहीं, बड़ा critical है।


बच्चों को नहीं भाती अब कहानियां परियों की,
उनके लिए Doraemon ,Chhota Bheem  बड़े Actual हैं।


घर-घर पूजे जाते थे कभी राणा- शिवाजी
पर अब तो वे बस किताबों में ही रह गए  role model हैं।


छतों की तरह जुड़ी रहती थी दिलों की दीवारें कभी,
अब तो हर कोई  single और special  है।


तोता- मैना तो बस भीड़ में ही खोकर रह गए,
 रह गए तो सिर्फ गिरगिट और eagle हैं।


झूठ -फरेब की हर तरफ खुली है दुकानें यहां,
शायद ही कोई कोना यहां loyal है।


अब लोग अपना 100% प्रतिशत नहीं देते,
बस छोटी-छोटी जंग ही उनके लिए final हैं।


                                                  ...... 'अनु-प्रिया'

Naye Zamane ki Kavita




New Kavita/ poem/ poetry on Modernisation

Digital zamana



Aajkal jamana baḍa digital hai,
Simple nahin, bada critical hai.


Bachchon ko nahin bhati ab kahaniyan pariyon ki,
Unake liye Doraemon ,Chhota Bheem bade acctual hain.



Ghar-ghar puuje jaate the kabhi raṇa- shivaji
Par ab to ve bas kitabon me hi rah gaye role model hain.




Chhaton ki tarah judi rahati thi dilon ki deewaren kabhi,
Ab to har koi single aur special hai.




Tota- maina to bas bheed me hi khokar rah gaye,
 Rah gaye to sirf girgiṭ aur eagle hain.



Jhuuṭh Fareb kii har taraph khuli hai dukaanen yahan,
Shayad hi koi kona yahan loyal hai.



Ab log apna 100 percent nahin dete,
Bas chhoṭi-chhoṭi jang hi unke liye final hain.

***
                                     ....... 'Anu-priya'


1 टिप्पणी:

Blogger द्वारा संचालित.