120+2 line Gulzar Shayari | Gulzar Quotes in Hindi

 



हैलो दोस्तों ! आपका स्वागत है एक और नई पोस्ट में । आज हम बेस्ट शायर गुलज़ार साहब की कुछ बेहतरीन शायरियों का संग्रह आपके लिए लेकर आए, जिसमें 120 से ज़्यादा शायरियां आपको देखने को मिलने वाली हैं। यहां पर हम आपके लिए लेकर आए हैं, उनकी प्रसिद्ध 120+2 line Gulzar Shayari | Gulzar Quotes in Hindi , जिनको पढ़कर आप भी तरोताजा हो उठेंगे।


Content:---

  • 2 line Gulzar shayari 
  • गुलजार शायरी हिंदी में
  • Gulzar shayari in Hindi 2 lines
  • गुलजार की दो लाइन शायरी
  • गुलजार सैड शायरी
  • Zindagi Quotes in Hindi Gulzar
  • गुलजार शायरी जिंदगी 
  • Gulzar quotes in Hindi  बारिश शायरी गुलजार 
  • Gulzar Shayari on Love
  • Gulzar Quotes on Life 
  • वक्त पर शायरी गुलजार 
  • गुलजार शायरी दोस्ती
  • रिश्ते पर गुलजार शायरी दो लाइन




2 line Gulzar shayari 

120+2 line Gulzar Shayari | Gulzar Quotes in Hindi | Shayarimetro


गुलज़ार साहब भारत के सबसे लोकप्रिय लेखकों में से एक हैं। साथ ही, वे बेहतरीन फ़िल्म निर्माता और गीतकार भी हैं। गुलज़ार साहब ने हिंदी और उर्दू में हज़ारों खूबसूरत ग़ज़लें, शायरी, कविताएँ, उद्धरण, अल्फाज़ और कविताएँ लिखी हैं। उनके शब्द हर किसी के दिल को छू जाते हैं. ।


गुलजार शायरी हिंदी में

2 line Gulzar shayari  गुलजार शायरी हिंदी में Gulzar shayari in Hindi 2 lines गुलजार की दो लाइन शायरी shayarimetro




पूरे की ख्वाहिश में ये इंसान बहुत कुछ खोता है,
भूल जाता है कि आधा चाँद भी खूबसूरत होता है।

poore ki khwahish mein ye insaan bahut kuch khota hai,
bhool jaata hai ki aadha chaand bhi khoobsoorat hota hai.




दौलत नहीं शोहरत नहीं,न वाह चाहिए 
“कैसे हो?” बस दो लफ़्जों की परवाह चाहिए

Daulat nahi, Shohrat nahin na vaah  chahiye
“kaise ho?” bas  Do Lafzon Ki Parwah chahiye




मंजिल भी उसकी थी रास्ता भी उसका था,
एक हम अकेले थे काफिला भी उसका था !

manjil bhi uski thi, raasta bhi uska tha,
Ek ham akele the kafila bhi  uska tha !





Gulzar shayari in Hindi 2 lines



गुलजार की शायरी में गहराई और संवेदनशीलता का अद्भुत संगम मिलता है। उनके द्वारा प्रयुक्त किए गए शब्द वाक़िफ़ और प्रेरणादायक होते हैं, जो मन को छू लेते हैं।

,
यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता

Yun bhi Ek Bar Hota  ki Samundar Behta
Koi Ehsaas to Dariya ki ana ka hota


दो लाइन की गुलजार शायरी | love Gulzar shayari | shayarimetro



वो चीज जिसे दिल कहते हैं,
हम भूल गए हैं रख कर कहीं!!

vo cheej jise dil kahate hain,
ham bhool Gaye hain rakh kar kahin..!!




अगर कसमें सब होती,
तो सबसे पहले खुदा मरता!

Agar kasamen sab hotee,
to sabase pahale khuda marata..!!




वो उम्र कम कर रहा था मेरी
मैं साल अपने बढ़ा रहा था

Vo Umr Kam Kar Raha Tha Meree
Mai Saal Apne Badha Raha Tha..!!




कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है

Kal Ka Har Vaaqia Tumhara Tha
Aaj Ki Daastaan Hamari Hai..!!




काई सी जम गई है आँखों पर
सारा मंज़र हरा सा रहता है

Kaai Si am Gayi Hai Aankhon Par
Saara Manzar Hara Sa Rahata Hai..!!






गुलजार की दो लाइन शायरी


गुलजार एक अनूठे शायर और लेखक हैं, जिनकी शायरी और रचनाएँ जीवन के हर देखे- अनदेखे पहलू को उजागर करती हैं।





मेरी ख़ामोशी में सन्नाटा भी है और शौर भी है,
तूने देखा ही नहीं, आँखों में कुछ और भी है

meri khamoshi mein sannaata bhi hai aur shor bhi hai,
Tune dekha hi nahin, aankhon mein kuch aur bhi hai


लकीरें हैं तो रहने दो,
किसी ने रूठ कर गुस्से में शायद खींच दी थी!!

Lakiren Hain to Rahane do
kisi ne Ruth kar gusse mein Shayad khinch di thi.

गुलजार की दो लाइन शायरी | दो लाइन की गुलजार शायरी |शायरी मेट्रो



तमाशा करती है मेरी जिंदगी,
गजब ये है कि तालियां अपने बजाते हैं!!

Tamasha Karti Hai meri Zindagi
Gajab ye Hai Ki taaliyan apne bajate Hain.




मैं दिया हूँ, मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं,
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं!!

Mai Diya hun, meri Dushmani to sirf andhere se hai
Hawa to bewajah hi mere khilaf Hai.



खता उनकी भी नहीं यारो वो भी क्या करते,
बहुत चाहने वाले थे किस किस से वफ़ा करते!!

Khata unki bhi nahin yaaron vah bhi kya karte
Bahut chahane wale the, Kis-kis se Wafa karte



कैसे करें हम ख़ुद को तेरे प्यार के काबिल,
जब हम बदलते हैं, तुम शर्ते बदल देते हो!!

Kaise karen ham khud Ko tere pyar ke kabil
Jab ham badalte Hain Tum shart Badal dete Ho



अपने साए से चौंक जाते हैं,
उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा!!

Apne sare se chauk Jaate Hain
Umra gujari Hai is kadar tanha.




Gulzar shayari 2 line


गुलजार की शायरी में स्नेह और आत्मा की गहराई का अद्वितीय अनुभव होता है। उनके शब्द न केवल दिल को छूते हैं, बल्कि वे समाज की अंतरात्मा को भी स्पष्ट करते हैं। 




आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aaina Dekh Kar Tasallee Huee
Ham Ko Is Ghar Mein Jaanata Hai Koee..!!




“पढ़ना तुम्हें नहीं आता किताब क्या करे,
आंखें तुम भूल गए हिजाब क्या करें।”

Padhna Tumhein Nahi Aata Kitaab Kya Kare,
Aankhein Tum Bhool Gaye Hijaab Kya Kare.”





2 line shayari Gulzar





मयख़ानों को इतना बुरा भी न कहिए...
हुकूमतें चलती हैं इसी के रुपयों से...!!

mayakhaanon ko itana bura bhi na kahiye... hukoomaten chalati hain isi  ke rupayon se...!!



दिल अब पहले सा मासूम नहीं रहा,
पत्त्थर तो नहीं बना पर अब मोम भी नही रहा।

dil ab pahale sa maasoom nahin raha,
Pattthar to nahin bana par ab mom bhi nahi raha.


अंदाज़ा मत लगाइए कि आखिर में क्या होगा...
चलनें का शौक़ हो शख़्स बहुत दूर निकल जाता है...!!

andaaza mat lagaiye ki aakhir mein kya hoga... chalane ka shauk ho shakhs bahut door nikal jaata hai...!!



एक तो रोनें की भी पाबन्दी है...
दूसरा आँसू रोकना भी मुश्किल लग रहा...!!

ek to rone ki bhi paabandee hai...
doosra aansoo rokana bhi mushkil lag raha...!!


मैनें दूर तक की अनगिनत बात सोच रखी थी...
एक उदास सी शाम नें मुझे आईना दिखा दिया...!!

mainen door tak ki anginat baat soch rakhi thi... ek udaas si shaam ne mujhe aaina dikha diya...!!




दूसरा मौका सिर्फ, मोहब्बत को दिया जाता हे,
जिस शख्स से, मोहब्बत थी उसे नहीं.

Doosara mauka sirf, Mohabbat ko diya jaata he,
Jis shakhs se,Mohabbat thi use nahin.



जो उम्र भर भी न मिल सके, 
से उम्र भर चाहना इश्क है 

Jo umra bhar bhi Na mil sake 
Use umra bhar chahana Ishq Hai 




खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले, दिन पलटते रहते हैं 

Khulee Kitaab Ke Safhe Ulatate Rehte Hain
Hawa Chale Na Chale, Din Palatate Rehte Hai..!!




आ रही है जो चाप क़दमों की
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद

Aa Rahi Hai Jo Chaap kadmon Ki
Khil Rahe Hain Kahin Kanval Shaayad..!!




मुद्दतें लगी बुनने में ख्वाब का स्वेटर,
तैयार हुआ तो मौसम बदल चूका था!

muddatein lagi  bunane mein khwaab ka sweater,
taiyaar hua to mausam badal chuka tha..!!





गुलजार सैड शायरी




जब से तुम्हारे नाम की मिसरी होंठ से लगाई है
मीठा सा गम,  मीठी सी तन्हाई है।

Jab Se Tumhare Naam Ki Misri Honth se lagai  hai
Meetha Sa Gam, Meethi Si Tanhai hai



पलक से पानी गिरा है, तो उसको गिरने दो,
कोई पुरानी तमन्ना, पिघल रही होगी।

Palak se Pani Gira Hai To usko Girne do
koi purani Tamanna pighal Rahi Hogi



कभी जिंदगी एक पल में गुजर जाती है
कभी जिंदगी का एक पल नहीं गुजरता

Kabhi jindagi ek pal me gujar jaati hai
Kabhi jindagi ka ek pal nhi gujarta



दर्द हल्का है साँस भारी है,
जिए जाने की रस्म जारी है।

Dard Halka Hai, Saans Bhari Hai 
Jiye Jaane Ki rasam Jari hai





Zindagi Quotes in Hindi Gulzar


गुलजार की शायरी एक पल में जिंदगी की सारी कहानी को समेट लेती है। उनके शब्द न तो सिर्फ कविता की शोभा बढ़ा देते हैं, बल्कि देखा जाए तो व्यक्ति को जीने की कला भी सिखाते हैं।



Jindagi quotes in Hindi Gulzar | jindagi gulzar quotes | shayarimetro



इतना क्यों सिखाए जा रही हो जिंदगी
हमें कौन सी सदिया गुजारनी है यहां

Itna Kyon Sikhaye ja rahi  ho Jindagi
Hamen kaun si Sadiya Gujarni Hai Yahan




चूम़ लेता़ हूं ह़र मुश्किलों को़ मैं अ़पना माऩक़र
जिंदगी कै़सी भी है़ आखिऱ है़ तो मे़री

Chum leta Hun har mushkilon ko  mai apna maan kar
Jindagi kaisi bhi hai, aakhir Hai to meri 





च़ख क़र देखी़ है़ क़भी तन्हाई तुम़ने ?
मैने देखी़ है़ ब़ड़ी ईमानदार सी़ लग़ती है।

Chakhkar dekhi Hai kabhi tanhai tumne 
Maine dekhi Hai, badi imandar Si lagti Hai



Quotes on Life in Hindi by Gulzar



अकेलेपन में समेट ली जिंदगी मैंने !
अब भरोसे पर भी भरोसा नहीं रहा !

Akelepan mein samet Li jindagi maine
Ab Bharose per bhi Bharosa nahin Raha

 




किसने रास्ते मे चांद रखा था,
मुझको ठोकर लगी कैसे!!

Kisne raste mein Chand Rakha tha
Mujhko thokar lagi kaise.
 



एहतियातन बुझा-सा रहता हूं,
जलता रहता तो खाक हो जाता।

Ahtiyatan bujha kar rahata hun
Jalta rahata to khak ho jata





गुलजार शायरी जिंदगी 


थोड़ा सा रफू करके देखिए न
फिर से नई सी लगेगी जिंदगी ही तो है.!

Thoda Sa raffu karke dekhiye na
Fir se nayi lagegi,  jindagi hi to Hai.


जिंदगी शिकायतें लेकर पीछे पड़ी है और ..
मेरा हौसला मुस्कुराने के जिद्द पर अड़ा है.!

Jindagi shikayatein lekar piche padi hai aur
Mera hosla muskurane ki jid per Ada hai



ठुकरा दो अगर दे कोई जिल्लत से समंदर,
इज्जत से जो मिल जाये वो कतरा ही बहुत है

Thukra do agar de koi jilllat se samander
Ijjat se jo mil jaaye vah Katra hi bahut hai.




तस्वीरे लेना भी जरूरी है जिंदगी में साहब
आईने गुजरा हुआ वक्त नहीं बताया करते

Tasviren Lena bhi jaruri hai jindagi mein Saheb
Aaine gujara hua waqt nahin bataya karte



महफिल में चल रही थी हमारे कत्ल की तैयारी
हम पहुंचे तो वो बोले बड़ी लंबी उम्र है तुम्हारी..!


Mahfil mein chal rahi thi hamare katl ki taiyari
Ham pahunche to vah bole badi lambi umra Hai tumhari



कपड़ों से तो सिर्फ पर्दा होता है साहब
हिफ़ाज़त तो निगाहों से होती है..!

Kapdon se to sirf parda hota hai Sahab
Hifazat to nigahon se Hoti Hai



Gulzar quotes in Hindi 


गुलजार जी की शायरी और कोट्स की खासियत यही है कि उनकी शायरी में दिल की गहराई से सींचा गया हर शब्द फूलों की तरह खिलता है, और चित्रों की तरह आंखों में बस जाता है।उनकी शायरी कोट्स की जितनी भी तारीफ की जाए, कम है। 

Two line Gulzar quotes | Gulzar two line shayari quotes | shayarimetro


एक तेरा ही तो ख्याल है मेरे पास,
वरना कौन अकेले में मुस्कुराता है.!

Ek Tera hi to khyal hai mere paas
Varna Kaun akele mein muskurata Hai

 


सुना हैं काफी पढ़ लिख गए हो तुम,
कभी वो भी पढ़ो जो हम कह नहीं पाते हैं!!


Suna hai kafi padh likh Gaye Ho Tum
Kabhi vah bhi padho Jo ham kah nahin paate




दफ़्न कर दो हमें कि साँस मिले
नब्ज़ कुछ देर से थमीं सी है.!

Dafan kar do hamen ki saans mile 
Nabz Kuch der se thami si Hai






गुलजार कोट्स इन हिंदी 



तुम्हारी खुशियों के ठिकाने बहुत होंगे,
मगर हमारी बेचेनियों की वजह बस तुम हो!!

Tumhari Khushiyon ke thikane bahut honge
Magar hamari bechainiyon ki vajah bus Tum Ho


 

मिल गया होगा कोई गजब का हमसफ़र,
वरना मेरा यार यूँ बदले वाला नहीं था!!

Mil Gaya hoga koi Gazab ka Humsafar
Varna Mera yaar Jo badalne wala nahin tha.


 

मुझको मेरे वजूद की हद तक न जानिये,
बेहद हूँ, बेहिसाब हूँ, बे-इन्तहां हूँ में!!


Mujhko mere vajud ki had Tak Na janiye
Behad hun, behisaab hun, beintehaa Hun mai


 

कौन कहता हैं कि हम झूठ नहीं बोलते,
एक बार खैरियत तो पूछ के देखियें!!

Kaun kahta Hai Ki ham jhooth nahin bolate
Ek baar khairiyat poochh ke to dekhiye





Gulzar Quotes in Hindi 2 line




सोचता हूं दोस्तों पर मुकदमा कर दूँ 
इसी बहाने तारीखों पर मुलाक़ात तो होगी..!!

Sochta Hun doston per mukadma kar dun 
Isi bahane tarikhon per mulakaat to hogi





फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी रिहाई दी है..!
Fir  vahi Laut ke Jana hoga
Yaar ne kaisi rihai di Hai 





ग़ज़ल भी मेरी है पेशकश भी मेरी है मगर
लफ्ज़ो में छुप के जो बैठे है वो हर बात तेरी है..!

Gazal bhi meri Hai peshkash bhi meri Hai Magar 
Lafzon mein chhup ke Jo baithe Hain, vah har baat Teri Hai





न हक़ दो इतना की तकलीफ हो तुम्हे,
न वक्त दो इतना की गुरुर हो हमें ..!

Na hak do itna ki taklif ho Tumhen 
Na waqt to itna ki gurur Ho hamen





अब क्यों लगती है मुझे ठोकरें पापा 
अब तो चप्पल भी में सीधी पहनता हूं..!!   

Ab kyon lagti Hai mujhe thokre papa 
Ab to chappal bhi main Sidhi pahnata hun..






वास्ता नही रखना तो नजर क्यों रखते हो 
किस हाल में जिंदा हूं, खबर क्यों रखते हो

Vasta nahin rakhna to najar kyon rakhte ho
Kis haal mein Jinda Hun, khabar kyun rakhte ho 






कहने को शब्द नहीं, लिखने को भाव नहीं
दर्द तो हो रहा है पर दिखाने को घाव नही. !!

Kahane ko Shabd nahin, likhane ko bhaav nahin 
Dard to ho raha hai per dikhane ko ghaav nahin






शाम होते ही मन में एक सवाल उठता है 
आज दिन ढला है या उम्र मेरी … !

Sham hote hi man mein ek sawal uthata hai 
Aaj din dhala Hai ya umra meri...!







अच्छे लोग बहुत सस्ते होते हैं 
बस मीठा बोलो और खरीद लो..!!

Acche log bahut saste hote Hain 
Bus meetha bolo aur khareed lo...!!






कुछ लोग मेरे शब्दों से मेरे अंदर देखना चाहते हैं 
नादान हैं वो किनारो पे बैठकर समंदर देखना चाहते है.

Kuch log mere shabdon se mere andar dekhna chahte Hain 
Nadan Hai vah kinaron per baithkar samander dekhna chahte Hain 






क्या पता कि मोहब्ब्त ही हो जायेंगी 
हमे तो बस तेरा मुस्कुराना अच्छा लगा था. !!

Kya pata Ki Mohabbat hi Ho jayegi 
Hamen to bus Tera muskurana achcha Laga tha...!!






चाँद हो़ता ऩ आ़समाँ पे़ अग़र
हम़ किसे आप़ सा़ हसीं क़हते

Chand hota na Aasman per agar 
Ham kisi aap sa hansi kahte.






हंस़ता तो़ मै़ रोज हूँ
म़गर खुश़ हुए़ जमाना हो़ गया

Hansta to main roj hun 
Magar Khush hue jamana Ho Gaya





ब़हुत मु़श्किल से़ क़रता हूं , ते़री यादों का कारोबार
मा़ना मुनाफा क़म है प़र गु़ज़ारा हो़ जाता़ है

Bahut mushkil se Karta Hun, Teri yadon ka karobar 
Mana munafa kam hai per gujara ho jata hai






Gulzar Motivational Quotes in Hindi


गुलजार जी के मोटिवेशनल कोट्स जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जैसे कि संघर्ष, सफलता, और उत्साह। उनके कोट्स में यह दर्शाया गया है कि  जीवन के हर संघर्ष के पीछे कुछ सीखने की क्षमता होती है, जो हमें मजबूत बनाती है।



नसीब जिनके ऊँचे और मस्त होते है
इम्तिहान भी उनके जबरदस्त होते है..

Naseeb jinke unche aur mast hote Hain 
Imtihan bhi unke jabardast hote Hain 



Gulzar motivational quotes in Hindi | two line Gulzar quotes | shayarimetro



किसी के लिए भी खुली किताब मत बनों 
टाइमपास का दौर हैं पढ़कर फेंक दिए जाओगे.!

Kisi ke liye bhi khuli kitab mat Bano 
Timepass ka Daur Hai padhakar fenk diye jaaoge 





चंद फासला जरूर रखिए हर रिश्ते के दरमियान क्योंकि 
बदलने वाले अक्सर बेहद अजीज ही हुआ करते ।।

Chand faasla jarur rakhiye har rishte ke darmiyan kyunki
Badalne wale Aksar behad Aziz hi hua karte Hain 






हंसिए, मिलिए, बातें करिए, रूठने से क्या साकार होगा 
न तुम जानों न हम जाने कब क्या ‘आख़िरी बार होगा.. !
Hansiye, miliye, baatein kariye, ruthane se kya saakaar hoga
Na Tum Jano Na ham jaane, kab kya aakhri baar hoga







Thought Gulzar 2 Line shayari 




ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में,    
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में!!

Khushbu Jaise log mile afsane mein
Ek purana khat khola anjane mein



हम तो अब याद भी नहीं करते,  
आप को हिचकी लग गई कैसे!!

Ham to ab yaad bhi nahin karte
Aapko hichki lag gayi kaise.



बहुत छाले है उसके पैरों में ,
कमबख्त उसूलों पर चला होगा!!


Bahut chhale Hain uske pairon mein
Kambakhat usulon per chala hoga


Thought Gulzar 2 line shayari | Gulzar 2 line quotes | Shayarimetro



बिगड़ैल हैं ये यादे,
देर रात को टहलने निकलती हैं!!

Bigdail Hai ye yaadein
Der raat ko tahalane nikalti Hain







Heart Touching Gulzar shayari 2 Line 


गुलजार जी की शायरी भीड़ से अलग है। यूं कह लीजिए की गुलजार जी की शायरी एक खामोशी की भाषा है जो अपने आप में गहराई समेटती है। इसमें एक अनोखा ज़ज़्बा है, आकर्षण है,जो रूह को छू जाता है।

कहानी शुरू हुई है तो खतम भी होगी,
किरदार गर काबिल हुए तो याद रखे जाएंगे!!

Kahani shuru Hui Hai to khatm bhi hogi
Kirdaar Gar kabil hue to yaad rakhe jayenge




जरूरी नहीं हर ख़्वाब पूरा हो,
सोचा तो उसे ही जाता है जो अधूरा हो.!

Jaruri nahin har Khwab pura Ho
Socha to use hi jata hai jo adhura Ho. Ko





Gulzar Shayari on Love




बड़ी नादानी से पूछा उन्होंने, क्या अच्छा लगता है
हमने भी धीरे से कह दिया, एक झलक आपकी

Badi nadani se puchha unhone,Kya achha lagata hai
Hamane bhi dheere se kah diya, Ek zhalak aapki..



“प्यार में कितनी बाधा देखी,
फिर भी कृष्ण के संग राधा देखी”

Pyar mein kitni badha dekhi 
Fir bhi Krishna ke sang Radha dekhi 





अकेलेपन में समेट ली जिंदगी मैंने !
अब भरोसे पर भी भरोसा नहीं रहा !

Akelepan mein samet Li jindagi maine
Ab Bharose per bhi Bharosa nahin Raha




इतने लोगों में कह दो अपनी आँखों से,
इतना ऊँचा न ऐसे बोला करे, लोग मेरा नाम जान जाते हैं!


itne logon mein kah do apni  aankhon se, 
itna uncha na aise bola kare, log mera naam jaan jaate hain..!!





Gulzar Quotes on Life 




हमसे नफरत करने वाले कमाल का हुनर रखते हैं,
हमें देखना नहीं चाहते फिर भी नज़र रखते हैं.!


Humse nafrat karne Wale kamaal ka hunar rakhte Hain
Hamen dekhna nahin chahte fir bhi najar rakhte Hain



होंठों की हंसी को न समझ हकीकत ए-जिन्दगी
दिल में उतर के देख कितना टूटे हुए हैं हम.!


Hothon ki hansi Ko Na samajh hakikat-e- jindagi
Dil mein utar kar dekh Kitna tute hue Hain ham





Guljar shayari quotes Hindi




तुम शोर करते हो, सुर्खियों में आने के लिए,
हमारी तो खामोशियां अखबार बनी हुई हैं !!

Tum shor karte ho surkhiyon mein aane ke liye
Hamari to khamoshiyan akhbar Bani Hui Hain.





शायर बनना तो बहुत आसान हैं बस,
एक अधूरी मोहब्बत की मुकम्मल डिग्री चाहिए!!

Shayar Banna to bahut aasan hai bus
Ek adhuri Mohabbat Ki mukmmal degree chahiye



किसी पर मर जाने से होती हैं मोहब्बत,
इश्क जिंदा लोगों के बस का नहीं!!

Kisi per mar jaane se Hoti Hai Mohabbat
Ishq Jinda logon ke Bas ka nahin.





हवा गुज़र गयी पत्ते थे कुछ हिले भी नहीं,
वो मेरे शहर में आये भी और मिले भी नहीं!!

Hawa Gujar gayi , patte the, kuch khile bhi nahin
Vah mere Shahar mein aaye bhi aur mile bhi nahin






बेहिसाब हसरते ना पालिये,
जो मिला हैं उसे सम्भालिये!!

Behisaab hasratein na paaliye
Jo mila hai, use sambhaliye






 Gulzar shayari in Hindi 2 lines



दर्द की भी अपनी एक अदा है,
वो भी सहने वालों पर फ़िदा है।

dard ki bhi apni ek ada hai
Wo bhi sahane walo par fida hai.






बारिश शायरी गुलजार 





“एक ख्वाब ने आँखें खोली है, क्या मोड़ आया है कहानी में,
वो भीग रही है बारिश में, और आग लगी है पानी में.”

Ek Khwaab Ne Aankhein Kholi Hai,
Kya Mod Aaya Hai Kahaani Mein,
Woh Bheeg Rahi Hai Baarish Mein,
Aur Aag Lagi Hai Paani Mein.”



छोटा सा साया था आँखों में आया था,
हमने दो बूंदों से मन भर लिया!!

Chhota sa saaya tha, aankhon mein aaya tha
Humne do bundon se man bhar liya




तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

Tumhaari Khushk Si Aankhen Bhali Nahin Lagti
Vo Saaree Cheezen Jo Tum Ko Rulaye, Bheji Hain..!!




मैं चुप कराता हूं हर शब उमड़ती बारिश को,
मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है!!


Mai chup karata hoon har shab Umadti barish ko
Magar yah roj gayi baat chhed deti Hai.




रोई है किसी छत पे, अकेले ही में घुटकर,
उतरी जो लबों पर तो वो नमकीन थी बारिश!!

Roi Hai kisi chhat per akele hi mein ghutkar
Uttari Jo labon per to vo namkin thi barish.





गुलजार की दो लाइन शायरी Love




इश्क उसे भी था, इश्क मुझे भी था,
कम्बख्त, उम्र बीच में आ गई.

Ishq usse bhi tha, Ishq muze bhi tha,
Kamabakht, Umra beech me aa gayi.




दुपट्टा क्या रख लिया सिर पर, वह दुल्हन नजर आने लगी
उसकी तो अदा हो गई , जान हमारी जाने लगी

Dupatta kya rakh liya sar pe, Wo dulhan najar ane lagi,
Uski to aada ho gayi, Jaan hamari jane lagi.




दिल तो रोज कहता है मुझे कोई सहारा चाहिए,
फिर दिमाग कहता है क्या धोखा दोबारा चाहिए।

dil to roj kahata hai mujhe koi sahara chaahiye, phir dimaag kahata hai kya dhokha dobaara chaahiye.

 


“हलके हलके पर्दो में, मुस्कुराना अच्छा लगता है,
रौशनी जो देता हो तो, दिल जलाना अच्छा लगता है.”

Halke Halke Pardo Mein, Muskurana Achha Lagta Hai,
Roshni Jo Deta Ho Toh, Dil Jalana Achha Lagta Hai.




गुलजार शायरी इमेज 




वो जो उठातें हैं क़िरदार पर उंगलियां,
तोहफे में उनको आप आईने दीजिए!!

Vah Jo uthate Hain kirdaar per ungaliyan
Tohfe mein unko aap aaina dijiye.




गुलजार शायरी रेख़्ता 




तुझ से बिछड़ कर कब ये हुआ कि मर गए,
तेरे दिन भी गुजर गए और मेरे दिन भी गुजर गए.!


Tujhse bichhad kar kab ye hua ki mar Gaye
Tere bin bhi Gujar gaye aur mere dil bhi Gujar Gaye.





वक्त पर शायरी गुलजार 



वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर,
आदत इस की भी आदमी सी है!!

Waqt rahata nahin kahin tik kar
Aadat iski bhi aadami Si Hai.




दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

Din Kuch aise Gujarta Hai Koi
Jaise Ehssan Utarta Hai  Koi.




कोई अटका हुआ है पल शायद
वक़्त में पड़ गया है बल शायद

Koi Ataka Hua Hai Pal Shaayad
Waqt Mein Pad Gaya Hai Bal Shaayad..!!




हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

Hath Chute Bhi To Rishte Nahi Choda Karte
Waqt Ki ShakhaSe Lamhe Nahi Toda Karte.



बदल जाओ वक़्त के साथ या वक़्त बदलना सीखो,
मजबूरियों को मतं कोसो, हर हाल में चलना सीखो!
Badal jaate waqt ke saath ya waqt badalana seekho,
majabooriyon ko mat koso, har haal mein chalana seekho..!!




मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर
लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया

mai akela hi chala tha jaanib-e-manzil magar
log saath aate gaye aur kaarwaan banta gaya



पसंद तो ये दुनिया भी नहीं आती कभी -कभार...
पर उस एक पल के लिए हम मर तो नहीं सकते...!!

pasand to ye duniyaan bhi nahin aati kabhi kabhaar...
Par us ek pal ke lie ham mar to nahin sakate...!!






गुलजार शायरी दोस्ती 




मेरा हक़ नहीं है तुम पर, ये जानता हूं मैं,
फिर भी न जाने क्यों, दुआओ में तुझको मांगना अच्छा लगता हे.

Mera hak nahin Hai Tum per, ye jaanta Hun mai
Fir bhi Na jaane kyon duaon mein tumko mangna achcha lagta hai.




तकलीफ खुद ही कम हो गई,
जब अपनों से उम्मीद कम हो गई ।

takaleeph khud hi kam ho gayi,
jab apanon se ummeed kam ho gayi




ज्यादा कुछ नहीं बदलता उम्र के साथ,
बस बचपन की जिद्द समझौतों में बदल जाती हैं।

jyaada kuchh nahin badalata umr ke saath
,bas bachapan kee jidd samajhauton mein badal jaati hain.




ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा 
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है

Zameen Sa Doosara Koi Sakhee Kahan Hoga 
Zara Sa Beej Utha Le To Ped Deti Hai..!!




“कुछ पल की ख़ुशी देकर, ज़िन्दगी रुलाती क्यों है,,
जो लकीरों में नहीं होते, क़िस्मत उन्ही से मिलाती क्यों है।”

Kuch Pal Ki Khushi Dekar, Zindagi Rulati Kyon Hai,,
Jo Lakeeron Mein Nahi Hote, Kismat Unhi Se Milati Kyon Hai.





जब से बात वफ़ाओं की करनें लगे हैं लोग...
मैनें महफ़िल में जाना छोड़ दिया है...!!

jab se baat wafaon ki  karne lage hain log...
Maine mahfil mein jaana chhod diya hai...!!




जब मिला शिकवा अपनों से तो ख़ामोशी ही भलीं,
अब हर बात पर जंग हो यह जरुरी तो नहीं।

jab mila shikava apanon se to khamoshi hi bhali
Ab har baat par jang ho, yah jaruri to nahin





Dard bhari Guljar shayari 2 line 


इस तरह, गुलजार की शायरी हमें एक अलग दुनिया में ले जाती है, जहां हर पल सजीव हो उठता है । उनके शब्दों में एक अद्वितीय संवाद होता है, जो हमें हमारे अंतर्मन के साथ जोड़ता है।



नतीजा-ए-दिल्लगी हमें मालूम थी शायद...
यूँ ही तो नहीं कोई शेर-ओ-शायरी करता है...!!

nateeja-e-dillagi  hamein maaloom thi shaayad... Yun hi o nahin koi sher-o-shayari karata hai...!!




जागना भी काबुल है तेरी यादों में रातभर, 
तेरे अहसासों में जो सुकून है वो नींद में कहाँ!

jagana bhi kabool hai tere yaadon mein raat bhar, 
tere ahsaason mein jo sukoon hai vo neend mein kahaan..!!




बिना बात भी बातचीत होती है साहब...
मैनें बैठ कर देखा है आज उसके बगल वाली कुर्सी पर...!!

bina baat bhi baatcheet hoti  hai saahab..
maine baithkar dekha hai aaj uske bagal wali kursi par...!!




घायल हुआ मैं जब कंकड़ लगा माथे पर ज़ोर से...
मैं रो न सका क्योकि उसनें कहा पैग़ाम-ए-दिल तुम्हें भेजा है...!!

ghaayal hua mai jab kankad laga maathe par zor se...
mai ro na saka kyoki usne kaha paigaam-e-dil Tumhen bheja hai...!!




मुझे छोड़ कर जाने वाले थोड़ा तो रहम कर जाते 
मेरे जिंदा रहने के लिए थोड़ी सांस तो छोड़ जाते

mujhe chhod kar jaane vaale thoda to raham kar jaate
mere jinda rahane ke liye thodi saans to chhod jaate




,

रिश्ते पर गुलजार शायरी दो लाइन




ख़रीद लिए जाते हैं शहर में आज़कल सब कुछ...
गांवों में अब भी कुछ चीजें बिकाउं नहीं हैं...!!

khareed liye jaate hain shahar mein aazakal sab kuch...
Gaon mein ab bhi  kuch cheejen bikaun nahin hain...!!




पुकार लो एक ही बार में अपनें सब करीबियों को...
देखो मौत के दर पर कोई साथ जानें को तैयार है क्या...!!

pukaar lo ek hi baar mein apne sab kareebiyon ko...
Dekho maut ke dar par koi saath jaane ko taiyaar hai kya...!!




कुछ अलग हैं उसके शहर की बातें
हमारा उस शहर में अब मन ही नहीं लगता...!!

kuch alag hain uske shahar ki baatein...
hamara us shahar mein ab man hi nahin lagata...!!




“ सब तरह की दीवानगी से वाकिफ हुए हम, 
पर मां जैसा चाहने वाला जमाने भर में न था ! 

Sab tarah ki diwangi se wakif huye hum, 
Par maa jaisa chahane wala jamane bhar me na tha !




कुछ शिकायत बनी रहे तो बेहतर है,
चाशनी में डूबे रिश्ते वफादार नही होते!!

Kuch shikayat Bani rahe to behtar hai
Chashni mein Dube rishte wafadar nahin hote.



सीने में धड़कता जो हिस्सा हैं,
उसी का तो ये सारा किस्सा हैं!!

Sine mein dhadkata Jo hissa Hai
Usi ka to yah Sara kissa hai.



***


दोस्तों! ये शायरियां आप व्हाट्सएप इंस्टाग्राम और फेसबुक पर शेयर कर सकते हैं और साथ में इमेज भी डाउनलोड कर सकते हैं, अगर पोस्ट अच्छी लगे तो कमेंट करके हमें ज़रूर बताएं... आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद 🙏

 1.गुलजार जी कौन हैं?

गुलजार एक प्रसिद्ध भारतीय लेखक, गीतकार, निर्देशक, और शायर हैं।


2.गुलजार जी की शायरी की क्या विशेषता है?

गुलजार जी की शायरी में सरलता, गहराई, और विचारशीलता की भावना होती है।


3.गुलजार जी की शायरी के क्या प्रमुख विषय हैं?

उनकी शायरी में प्रेम, जीवन, समाज, और व्यक्तित्व जैसे विभिन्न विषयों पर विचार किए जाते हैं।


4.गुलजार जी के कुछ प्रसिद्ध शेर कौन-कौन से हैं?

"तेरे बिना जीना सजा हो गया है" और "जब कोई बात बिगड़ जाए" जैसे उनके शेर बहुत प्रसिद्ध हैं।


5.गुलजार जी की शायरी को कहां से पढ़ा जा सकता है?

उनकी किताबें और कविता संग्रह आपको किताबकों की दुकानों, ऑनलाइन रिटेलर्स, और लाइब्रेरी में मिल सकती हैं।


6.गुलजार जी की शायरी किस भाषा में होती है?

उनकी शायरी हिंदी और उर्दू भाषा में होती है।


7.गुलजार जी का एक अधिक पसंदीदा शेर कौन सा है?

उनके एक पसंदीदा शेर में उन्होंने कहा है, "कुछ खो गया है, कुछ पाया है, जिसके चाहने वाले हैं, वो तेरा नाम लिख देते हैं।"

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.